सुक्खू सरकार ने कम छात्रों की संख्या वाले 284 स्कूल किए डी-नोटिफाई

0
325

सुक्खू सरकार ने कम छात्रों की संख्या वाले 284 स्कूल किए डी-नोटिफाई
Shimla
हिमाचल प्रदेश की सुक्खू सरकार ने हिमाचल में जीरो एनरोलमेंट वाले 228 प्राइमरी और 56 मिडिल स्कूलों को डिनोटिफाई करके उनमें तालाबंदी कर दी है। शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर ने रविवार को कहा कि शून्य छात्रों के नामांकन वाले 284 प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों को डी-नोटिफाई कर दिया गया है। डी-नोटिफाई किए गए विद्यालयों के शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों को ऐसे स्कूलों में भेजा जाएगा, जहां पर स्टाफ की कमी चल रही है।

Bhushan Jewellers

शिमला में प्रेस वार्ता के दौरान शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर ने कहा कि भविष्य में आवश्यकता के अनुसार स्कूलों को खोला जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य में लगभग 3,000 स्कूल एक शिक्षक के भरोसे चल रहे हैं, जबकि 455 स्कूल (शिक्षकों के साथ) प्रतिनियुक्ति के आधार पर चल रहे हैं, जबकि शिक्षकों के 12,000 पद खाली हैं। ऐसे में बड़ा फैसला किया गया है और बड़ा बदलाव भी। राज्य में 15,313 सरकारी स्कूल हैं। शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर ने कहा कि स्कूलों और कॉलेजों के लिए एक निर्धारित प्रारूप का पालन किया जाएगा। प्राथमिक के लिए कम से कम 10 छात्र, मिडिल के लिए 15, उच्च के लिए 20, वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों के लिए 25 और कॉलेजों के लिए 65 और मानकों को पूरा नहीं करने वाले स्कूलों और कॉलेजों को बंद कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में सेट किए गए पैरामीटर राष्ट्रीय पैरामीटर से कम हैं क्योंकि हिमाचल दुर्गम इलाके वाला एक पहाड़ी राज्य है।

Advt Classified

सुक्खू सरकार ने कम छात्रों की संख्या वाले 284 स्कूल किए डी-नोटिफाईशिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर ने पूर्व सरकार की शिक्षा व्यवस्था को घेरते हुए रोहित ठाकुर ने कहा कि पिछले 5 सालों में शिक्षा का स्तर काफी गिरा है। जयराम सरकार ने वोटों की राजनीति के लिए अंतिम 6 महीनों में 320 नए स्कूल खोले, जिसने 86,000 करोड़ रुपये का ऋण बोझ छोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि 86 हजार करोड़ रुपए का ऋण उन्हें विरासत में मिला है। अकेले 11 हजार करोड़ रुपए कर्मचारियों के डीए और एरियर का लंबित है।

Advt Classified

शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर ने कहा कि सरकारी स्कूलों में क्वालिटी एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए सरकार जल्द ट्रांसफर पॉलिसी में बदलाव करने जा रही है। शिक्षा मंत्री ने संकेत दिए कि ऐसे टीचर जो वर्षों से एक ही स्थान पर बैठे हुए हैं, उन्हें जल्द वहां से हटाया जाएगा। दूरदराज या ट्राइबल एरिया के स्कूलों में बरसों से काम करने वाले अध्यापकों को भी चॉइस के स्टेशन पर भेजा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here